You are here
Home > कार्यकर्म > सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से अपनी धरोहर अवधी परम्पराओं को कायम रखना विशेष कला है

सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से अपनी धरोहर अवधी परम्पराओं को कायम रखना विशेष कला है

प्रदेश अध्यक्षा श्रीमती सुरभि रंजन ने कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से अपनी धरोहर अवधी परम्पराओं को कायम रखना विशेष कला है। उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों द्वारा अपनी सभ्यता को आम जन तक पहुंचाना एक सरल एवं सुगम रास्ता है।
unnd
उन्होंने कहा कि भारतीय अवधी समाज द्वारा ऐसे कार्यक्रम का आयोजन कर एकता का संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसी कलाओं के माध्यम से युवा वर्ग को अपनी संस्कृति की अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त होती है।
श्रीमती सुरभि रंजन आज भारतीय अवधी समाज के तत्वावधान में राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह में ‘रिमझिम बरसे बदरिया’ कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ करने के उपरान्त अपने विचार व्यक्त कर रहीं थीं। उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों के तहत महिला कलाकारों ने अपने नृत्य एवं कला प्रस्तुति से दर्शकों का मन ही नहीं मोहा है, बल्कि समाज और परिवार में एकता का परिचय दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों के आयोजन से सामाजिक एकता एवं संस्कृति को बढ़ावा मिलता है।
श्रीमती सुरभि रंजन ने श्रोताओं के अनुरोध पर अपने मधुर स्वर से ‘झूला धीरे से झुलाओ झूला बनवारी’ गीत गाकर दर्शकों का मन मोह लिया।
Top
%d bloggers like this: