Tuesday, November 24, 2020
Home > Crime > पीड़ित की सक्रियता के चलते एक साल बाद पकड़े गए जालसाज

पीड़ित की सक्रियता के चलते एक साल बाद पकड़े गए जालसाज

डॉलर देने का झांसा देकर करते थे ठगी, पीड़ित की मदद से मड़ियांव पुलिस ने 9 जालसाजों को किया गिरफ्तार
-51 नोट डॉलर, 13 मोबाइल, 14 हजार रुपये व कागज की गड्डी बरामद
लखनऊ संवाददाता – एक साल पहले ठगी का शिकार हुए एक पीड़ित की सक्रियता के चलते मड़ियांव पुलिस ने 9 ऐसे जालसाजों को पकड़ने में सफलता पाई है, जो रुपये के बदले अमरीकन करंसी (डॉलर) देने का झांसा देकर ठगी करते थे। पुलिस ने आरोपितों के पास से 51 नोट डॉलर, 13 मोबाइल, 14 हजार रुपये व कागज की गड्डी बरामद कर उन्हें जेल भेज दिया है।


इंस्पेक्टर मड़ियांव संतोष कुमार सिंह ने बताया कि स्थानीय निवासी सुरेंद्र कुमार शुक्ला से जनवरी 2018 में कुछ टप्पेबाजों ने सस्ते में अमरीकन करंसी (डॉलर) देने का झांसा देकर दो लाख रुपये हड़प लिए थे। जिसका मुकदमा भी पीड़ित ने थाने पर दर्ज करवाया था। पीड़ित ने सोमवार शाम उन्हीं जालसाजों को मोहिबुल्लापुर स्टेशन के पास मैदान में खड़े देखा। जिसकी सूचना पीड़ित ने पुलिस को दी। जिसके बाद पुलिस ने घेराबंदी कर पश्चिम बंगाल मुर्शिदाबाद निवासी साहेब मंडल, साजेब शेख, रियान मालिया, सादिकुल इस्लाम, नजरुल इस्लाम, रानाउद्दीन मंडल, अजदुल व बिहार के मुंगेर निवासी मुकेश और लखीमपुर निघासन निवासी इस्माईल को दबोच लिया गया। पुलिस के मुताबिक सभी आरोपित फैजुल्लागंज में रहकर दर्जनों लोगों को अपना शिकार बना चुके हैं।
ऐसे करते थे ठगी
पुलिस पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि उनके गिरोह का सरगना करीम उल्लाह है। करीम लोगों को सस्ते में डॉलर बेचने का झांसा देकर जाल में फंसाता था। जिसके बाद कितनी रकम के बदले कितने डॉलर देना है, यह तय होने पर वह मीटिंग कराता था। उसके गिरोह का एक सदस्य डॉलर देता था। मीटिंग के समय अन्य लोग उसके आसपास खड़े होकर पीड़ित को बातों में उलझाकर विश्वास दिला देते थे। जिसके बाद डॉलर के आकर में बनी कागज के टुकड़ों की गड्डी। जिसके ऊपर नीचे कुछ डॉलर लगे रहते थे। उसे पीड़ित को थमा कर चंपत हो जाते थे। इंस्पेक्टर ने बताया कि सरगना करीम उल्लाह की तलाश की जा रही है। इसके अलावा सभी आरोपितों का आपराधिक इतिहास भी खंगाला जा रहा है।