Monday, July 22, 2019
Home > Top Stories > बाल निकुंज में बसंत पंचमी पर्व पर हुई काव्य गोष्ठी

बाल निकुंज में बसंत पंचमी पर्व पर हुई काव्य गोष्ठी

लखनऊ Ap3 -बाल निकुंज स्कूल्स एण्ड कालेजेज की सभी शाखाओं में बसंत उत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।इस अवसर पर बाल निकुंज इण्टर कालेज की मोहिबुल्लापुर शाखा के आडिटोरियम में नरेन्द्र भूषण की अध्यक्षता में हुई काव्य गोष्ठी का संचालन राजेन्द्र कात्यायन ने किया।

इस मौके पर बाल कवियों ने पंक्तियों को सुनाकर समां बाँध दिया l बसंत ऋतु पर कवि हरिमोहन बाजपेयी उर्फ माधव जी की पंक्तियों ‘पहले बसंत जब आता था, कोयल भी राग सुनाती थी’, पर अबकी बार न जाने क्यों ऋतुओं का महंत दिखा ही नहीं’ से पूरा आडिटोरियम तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। कक्षा-11 के बाल कवि रतीन्द्र शुक्ला ने बेबाक रचना (नफरत के दौर में मैं प्यार बांटता हूँ सुनाकर खूब वाहवाही लूटी l

वहीँ कक्षा-8 के बाल कवि हर्ष पाण्डेय ने ‘कृष्ण भगवान द्वारा दुर्योधन को सचेत करने पर’ लंबी कविताओं का प्रसंग सुनाया तो कवियों ने माला पहना कर उसका उत्साह बढ़ाया। इसके अलावा प्रमोद द्विवेदी, मंजु रमन लखनवी व कवयित्री सुश्री लक्ष्मी शुक्ला ने भी पंक्तियों को सुनाकर खूब वाहवाही बटोरी l