Sunday, July 21, 2019
Home > Lifestyle > अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर विशेष

अभी तो नापी है मुट्ठी भर जमीन,
पूरा आसमाँ अभी बाकी है

लखनऊ Ap3 news – महिला दिवस पर उपरोक्त पंक्तियाँ चरितार्थ होती है l पुरुष प्रधान भारतीय समाज होते हुए भी महिलाएं हमेशा शीर्ष पर रही है l आदिकाल से ही महिलाओं ने अपनी वीरता, शौर्य, साहस, बुद्धि व त्याग का उदाहरण प्रस्तुत किया है l जोधाबाई, रानी लक्ष्मीबाई, इंदिरा गांधी, मदर टेरेसा, कल्पना चावला व किरण बेदी सहित अनेको वीर महिलाओ ने महिला जगत का नाम रोशन किया है l सभी ने अपने-अपने कार्यों से देश का नाम रोशन कर एक मिसाल कायम की है l इन सबके बावजूद “महिला एक अबला नारी है” आज भी महिलाओं पर अत्याचार देखने को मिल रहा है l

कही कही तो महिलाओं के साथ दिल दहला देने वाली घटनाएं सामने आती है l आज महिलाओं के लिए सबसे जरूरी है कि वर्षों से चली आ रही पुरानी परम्पराओ को उखाड़ फेंकना है l जिसने महिलाओ को मानसिक गुलाम बना रखा है l महिलाओं को उस तकिया नुसी जंजीरों से अपने को आजाद करना है l यह पहल महिलाओं को खुद से करनी पड़ेगी तभी हम सशक्त हो सकते है l

नई नई योजनाये सरकार तथा एनजीओ द्वारा चलाई जा रही है लेकिन अधिकांश योजनाये केवल शहर तक ही सीमित रह जाती है और ग्रामीण इलाकों में अभी महिलाओं की स्थिति में कोई खास सुधार नही हुआ है l

आज हम आधुनिक युग में कदम तो रखे ही है पहनावे में भी हम आधुनिक दिखते है l मानसिकता से नही हम कहीं न कहीं से अपने आप को बेचारा समझते है l हम इस बेचारी को खत्म करके अपने आप को मजबूत करना होगा यही हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी l

एक संकल्प लेते है कि हम सशक्त बनेंगे और दूसरों को भी बनायेंगे l

-संघमित्रा (शिक्षिका)