Wednesday, September 18, 2019
Home > Crime > गुड़म्बा में पान दुकादार की लूट की फर्जी सूचना से हड़कंप

गुड़म्बा में पान दुकादार की लूट की फर्जी सूचना से हड़कंप

उधारी का रुपये लौटाने से बचने के लिए दुकानदार ने रची साजिश

बाइक सवार नकाबपोश द्वारा 5.25 लाख लूटने की सूचना

खनऊ Ap3 news – उधारी का रुपये मांग रहे लोगों से बचने के लिये सोमवार को गुड़म्बा के एक पान दुकानदार द्वारा 5.25 लाख रुपये लूटने की फर्जी सूचना से पुलिस विभाग में हड़कम्प मच गया। अपर पुलिस अधीक्षक ट्रांसगोमती व सीओ गाजीपुर पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। घटना स्थल की पड़ताल व कई घण्टो की पूछताछ के बाद दुकानदार ने लूट की फर्जी सूचना की बात कबूल कर ली। गुड़म्बा एसएसआई ने बताया कि फर्जी मुकदमा लिखाने के कारण दुकादार के खिलाफ विधिक कार्रवाई की जा रही है।

कल्याणपुर निवासी मो.उमर उर्फ राजू पान की गुमटी लगाने के साथ ही हॉफ डाला चलाता है। उमर के मुताबिक उसने अनवारी गांव निवासी किसान रामकिशोर से एक हजार वर्ग फुट प्लॉट खरीदा था। जिसकी रजिस्ट्री सोमवार को बाराबंकी के फतेहपुर तहसील में उसकी मां के नाम से होनी थी। सुबह करीब 10 बजे वह घर से 5.25 लाख रुपये स्कूटी की डिगी में रख कर फतेहपुर के लिए निकला था।

पुलिस चेकिंग से बचने के लिए बदला रास्ता

उमर ने बताया कि बेहटा कस्बे से पहले ही बाइक सवार एक युवक ने आगे पुलिस चेकिंग होनी की जानकारी दी। पुलिस उसके रुपये न लूट ले, इसलिए उसने अस्सी रोड से जाने का निर्णय लिया। वह थोड़ा आगे बढ़ा ही था। तभी पीछे से सफेद बाइक सवार दो बदमाशों ने उसका पीछा शुरू कर दिया। पीड़ित के मुताबिक बाइक चला रहा बदमाश हेल्मेट लगाए हुए था। जबकि पीछे बैठे बदमाश ने रुमाल से मुंह बांध रखा था। उसके आगे-पीछे बाइक लगाकर रुकने के लिए धमकाने लगे। बचने के लिए उसने शुक्ला आम की बाग में स्कूटी दौड़ा दी। इससे अनियंत्रित होकर वह गिर गया। तभी पीछे से आए बदमाशों ने पेट पर लात मार दी। जिससे वह बेहोश हो गया। होश आने पर उसने देखा कि स्कूटी की डिगी में रखे रुपये गायब थे।

शुरुआती जांच में पीड़ित के बयान में निकले कई छेद

घटना के बाद एएसपी ट्रांसगोमती अमित कुमार, सीओ गाजीपुर दीपक कुमार सिंह और इंस्पेक्टर गुडम्बा रवींद्र नाथ राय मौके पर पहुँचे। घटना स्थल के आसपास के लोगों से पूछताछ की। सभी ने ऐसी किसी घटना होने से अनिभिज्ञता जाहिर की। वही मुख्य रोड (कुर्सी रोड) को छोड़कर जाने की बात भी पुलिस अधिकारियों के गले नहीं उतरी। अधिकारियों द्वारा कई घण्टे की पूछताछ के बाद पीड़ित ने फर्जी सूचना देने की बात कबूल कर ली। दुकानदार ने बताया कि उसके ऊपर लाखो रुपये का बकाया हो गया था। सभी अपना रुपया वापस देने का दबाव बना रहे थे। इस कारण वह काफी परेशान था। इसीलिए उसने लूट की झूठी कहानी बताई। जिससे उसे कुछ समय मिल सके।

error: Content is protected !!