Wednesday, September 18, 2019
Home > Crime > रेलवे ट्रैक पर मिला अज्ञात युवक का शव, हत्या की आशंका

रेलवे ट्रैक पर मिला अज्ञात युवक का शव, हत्या की आशंका

डेढ़ घंटे तक सीमा विवाद में उलझी रही मड़ियांव व जानकीपुरम पुलिस

लखनऊ Ap3 news-  सीतापुर रोड भिठौली के पास गुरुवार की सुबह एक युवक का शव रेलवे लाइन के बीच मे पड़ा मिला। शव की स्थिति देखते हुए लोगों ने युवक की दूसरी जगह हत्या कर शव को रेलवे लाइन पर फेंकने की आशंका जताई। मौके पर पहुंची मड़ियांव व जानकीपुरम पुलिस डेढ़ घंटे तक सीमा विवाद में उलझी रही। पुलिस के प्रति लोगों का आक्रोश बढ़ता देख जानकीपुरम पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजने के साथ ही शिनाख्त का प्रयास शुरू कर दिया है।

सीतापुर रोड स्थित भिठौली क्रॉसिंग के पास गुरुवार की सुबह लोगों ने एक करीब 22 वर्षीय युवक का शव रेलवे लाइन के बीच मे पड़ा देख पुलिस को सूचना दी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक युवक ने लाल, काला धारीदार जैकेट, आसमानी रंग की शर्ट और नीली पैंट व बेल्ट पहने हुए था। सिर में जाहिरा चोट के निशान हत्या की ओर इशारा कर रहे थे। सूचना पाकर मौके पर पहुंची जानकीपुरम व मड़ियांव पुलिस सीमा विवाद में उलझ गए। करीब डेढ़ घंटे तक चले विवाद के बाद जानकीपुरम पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। जबकि प्रत्यक्षदर्शियों के दावा है कि शव का ज्यादा तर हिस्सा मड़ियांव थाना क्षेत्र में था।


इंस्पेक्टर के तर्क पर लोगों ने जताया विरोध

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर मड़ियांव संतोष कुमार सिंह ने तर्क दिया कि युवक ट्रेन से नीचे गिर गया होगा और बैक्यूम के दबाव में वह ट्रैक के बीच चला गया। इस पर मौजूद लोगों ने इंस्पेक्टर के इस तर्क पर आक्रोश व्यक्त किया। उनका कहना था कि ट्रेन से गिरने वाला व्यक्ति बिना ट्रेन के चपेट में आए लाइन के बीच मे जाना संभव नहीं है। फिलहाल मृतक की जेब से हरदोई की निर्मित तम्बाकू की पुड़िया मिलने से पुलिस उसे हरदोई इलाके का निवासी होने का कयास लगा रही है।


यह तथ्य कर रहे थे हत्या की तरफ इशारा

-मृतक के शर्ट के ऊपरी जेब से पुलिस को कुछ सिक्के मिले हैं। लोगों का कहना था कि ट्रेन से गिरने पर सिक्के निकल गए होते और आसपास बिखरे मिलते। इसके अलावा पुलिस को उसकी पैंट की जेब से कुछ सिक्के समेत करीब 215 रुपये और मिले।

-शव के पास ही उसकी दोनो चप्पले रखे होने की स्थित में मिली, अमूमन ट्रेन से गिरने पर चप्पलें अलग-अलग मिलती।

-सिर में जाहिरा चोट के निशान थे। लेकिन शरीर के अन्य हिस्से में कोई जाहिरा चोट नहीं पाई गई। लोगों का मानना है कि ट्रेन से गिरने पर शरीर पर कई जगह चोट के निशान आते हैं।

error: Content is protected !!