Saturday, August 24, 2019
Home > Top Stories > लखनऊ के प्रतिष्ठित फन रिपब्लिक मॉल में हुआ विस्फोट, मची अफरातफरी, कोई हताहत नहीं !!

लखनऊ के प्रतिष्ठित फन रिपब्लिक मॉल में हुआ विस्फोट, मची अफरातफरी, कोई हताहत नहीं !!

लखनऊ Ap3news-  लखनऊ के गोमतीनगर इलाके में स्थित शहर के प्रतिष्ठित फन रिपब्लिक मॉल में शुक्रवार दोपहर भीड़ थी, सभी कुछ ठीक ठाक था, इसी दौरान अचानक विस्फोट से वहां अफरातफरी व चीखपुकार मच गई, लोग इधर उधर भागने लगे। आरडीडी (रेडियोलॉजिकल डिस्पर्सल डिवाइस) से विस्फोट होने से रेडियोएक्टिव तत्व सक्रिय हो गए और रासायनिक रिसाव भी शुरू हुआ ।

आनन-फानन में फनमॉल के सुरक्षा अधिकारी ने इसकी सूचना जिला व पुलिस प्रशासन को दी। सूचना मिलते ही यूपी पुलिस की एटीएस और बीडीएस टीम घटनास्थल पर पर पहुंची और स्थिति को नियंत्रित करने के साथ ही उस एरिया को न्यूट्रलाइज किया। इसी दौरान मौके पर पहुंची फायर सर्विस ने ब्लास्ट से लगी आग को काबू किया । वहीं उत्तर प्रदेश की एसडीआरएफ ने मॉल के अंदर फंसे हुए लोगों को स्टेबलाइज करके सुरक्षित बाहर निकाला और स्वास्थ्य विभाग ने उचित उपचार दिया। रेस्क्यू के दौरान बचाव टीम को सूचना मिली कि कुछ लोगों व बचावकर्मियों कि तबीयत बिगड़ने लगी जिससे रेडिएशन के फैलने व जहरीली गैस के रिसाव की आशंका जताई गई । जिसके परिणाम स्वरूप 11वीं एनडीआरएफ की एक सीबीआरएन टीम ने अपने अत्याधुनिक सीबीआरएन के रेडिएशन डिटेक्शन इक्विपमेंट द्वारा रेडिएशन को डिटेक्ट किया और इसकी शिल्डिंग पार्टी ने प्रोडक्टिव सूट के साथ शिल्डिंग मैटेरियल व डी एम किट की सहायता से रेडिएशन व रासायनिक रिसाव को नियंत्रित कर खोज व राहत बचाव कार्य को अंजाम दिया।इसी के साथ-साथ रेडिएशन की स्थिति में मुख्य द्वार संक्रमित होने से मॉल के ऊपरी तल से लगभग 80 फीट की ऊंचाई पर फंसे हुए व्यक्तियों को एनडीआरएफ की रोप रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित रेस्क्यू किया ।


किसी बड़ी घटना नहीं, आपदाओं से निपटने हेतु एनडीआरएफ के द्वारा किये गए संयुक्त मॉक अभ्यास-सामंजस्य के प्रदर्शन का था नजारा ।


यह नजारा हकीकत में हुई किसी बड़ी घटना का नहीं बल्कि आतंकी घटनाओं व आपदाओं से निपटने के लिए 11वी एनडीआरएफ लखनऊ टीम द्वारा विभिन्न एजेंसियों व स्टेकहोल्डर्स के साथ मेगा अभ्यास किया गया था। इस पूरे अभ्यास में टीम ने संक्रमित व्यक्तियों व सामानों को सुरक्षित डी-कॉन्टेमिनेशन किया। इस मेगा मॉक अभ्यास सामंजस्य का मुख्य उद्देश्य सभी एजेंसियों का आपदा की स्थिति में रिस्पांस चेक करना, आपसी सूचनाओं,संसाधनों व कार्य योजनाओं का समन्वय व इसके क्रियान्वयन में होने वाली कमियों को दूर करने के साथ ही आमजन को आपदाओं से लड़ने हेतु जागरूक करना था। अभ्यास के द्वारा रासायनिक जैविक व रेडियोधर्मी आपात में यह संदेश देने की कोशिश की गई है कि आप भगदड़ ना मचाए, अफवाहें ना फैलाएं, खिड़की व दरवाजों को बंद रखें ,अपने शरीर को पूरी तरह से ढक लें तथा अपनी मुंह और नाक को भी कपड़ों से ढक लें तथा एसी कूलर इत्यादि बंद रखें तथा प्रशासन द्वारा एरिया सुरक्षित होने पर ही बाहर निकले।
इस सामंजस्य मॉक अभ्यास में अन्य स्टेकहोल्डर्स में सभी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल ने आउटर कार्डन किया तथा उत्तर प्रदेश पुलिस ने इनर कॉर्डन किया व होमगार्ड्स ने ट्रैफिक को नियंत्रित किया वहीं अन्य सभी स्वयं सेवी संस्थाओं जैसे नेहरू युवा केंद्र, एन एस एस , सिविल डिफेंस, रेड क्रॉस इत्यादि ने आवश्यकतानुसार मदद करती रही । इस तरह सभी स्टेकहोल्डर्स ने अपनी सक्रिय भागीदारी निभाकर इस माँक अभ्यास को सफल बनाया ।
यह मॉक अभ्यास यूपीएसडीएमए के उपाध्यक्ष रविंद्र प्रताप शाही व 11वीं एनडीआरएफ के डीआईजी आलोक कुमार सिंह के कुशल दिशा निर्देशन में सम्पन्न हुआ। इस दौरान बीएसएफ, एसएसबी, आईटीबीपी, मेडिकल आफिसर व अन्य वरिष्ठ अधिकारी और सभी स्टेकहोल्डर व स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रमुख मौजूद रहे।

error: Content is protected !!