Thursday, November 26, 2020
Home > Top Stories > कार्यवाहक महानिदेशक परिवार कल्याण डा. सी.के. कपूर ने किया पल्स पोलियो अभियान का शुभारंभ

कार्यवाहक महानिदेशक परिवार कल्याण डा. सी.के. कपूर ने किया पल्स पोलियो अभियान का शुभारंभ

लखनऊ Ap3news- भारत को अथक प्रयासों के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा 27 मार्च 2014 को पोलियो मुक्त देश का दर्जा प्राप्त हुआ है और हमें लगातार जागरूकता के साथ यह प्रयास करना है कि पोलियो हमारे देश में दोबारा से ना आने पाए।

वीरांगना अवंती बाई महिला चिकित्सालय में रविवार को पल्स पोलियो अभियान का शुभारंभ करने के बाद उक्त बातें कार्यवाहक महानिदेशक परिवार कल्याण डा. सी.के. कपूर ने कही। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. नरेंद्र अग्रवाल ने कहाकि भारत के पोलियो मुक्त घोषित हो जाने के बाद भी पोलियो संक्रमित देशों विशेष रूप से पाकिस्तान और अफगानिस्तान से पोलियो के पुनः संक्रमण प्रारंभ होने का हमारे देश में भी खतरा बना हुआ है।

उन्होंने कहाकि 2019 में भी पाकिस्तान में 6 केस व अफगानिस्तान में 3 केस निकल चुके हैं। इसलिए हमें विशेष रूप से सावधान रहने की आवश्यकता है। इस अवसर पर महानिदेशक परिवार कल्याण डा. सी.के. कपूर, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डा. ए.पी. चतुर्वेदी व सीएमओ डा. नरेंद्र अग्रवाल ने कुछ बच्चों को पोलियो बूंद पिलाकर अभियान का शुभारंभ किया । इस अवसर पर राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डा. ए.पी. चतुर्वेदी वीरांगना अवंतीबाई महिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. नीरज जैन, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. लिली सिंह सहित समस्त अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, विश्व स्वास्थ्य संगठन से डा. आशुतोष अग्रवाल, एनपीएसपी के एसआरसी डा. पुनीत मिश्रा, डा. सुरभि त्रिपाठी, यूनिसेफ से डा.संदीप शाही, डा. सौरभ अग्रवाल, यूएनडीपी से डा. नीरज नागर भी उपस्थित थे ।

सोमवार से शुक्रवार तक छूटे हुए बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने के लिए बनी 1998 टीमें ।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एम.के. सिंह ने बताया कि रविवार को पल्स पोलियो अभियान हेतु कुल 769730 बच्चों का लक्ष्य निर्धारित किया गया है और इनके लिए 2783 पोलियो बूथ बनाए गए थे। सोमवार से शुक्रवार तक छूटे हुए बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई जाएगी जिसके लिए 1998 टीमों व 6137 वैक्सीनेटर को लगाया जाएगा । इसके अलावा 136 मोबाइल टीम, 234 ट्रांजिट टीमें भी लगाई गई है । वहीं इनकी निगरानी के लिए 567 सुपरवाइजर और 16 डिवीजनल अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं जो लगातार निरीक्षण का कार्य करते रहेंगे।