Saturday, August 24, 2019
Home > Crime > माल में टप्पेबाजों ने 30 घरों से बटोर ले गए जेवर बर्तन

माल में टप्पेबाजों ने 30 घरों से बटोर ले गए जेवर बर्तन

-पुराने जेवर व बर्तनों के बदले उतने ही वजन के नए जेवर और बर्तन देने का दिया झांसा
लखनऊ Ap3news-माल के गुमसेना गांव में शातिर टप्पेबाजों ने फेरी लगाकर 30 घरों से पुराने जेवर, कपड़ा और बर्तन बटोर कर चंपत हो गए। आरोपितों ने पीड़ितों को पुराने माल के बदले उतने ही वजन के नए माल को इनाम के साथ वापस करने का झांसा दिया था। घटना के पांच दिनों बाद भी आरोपितों के वापस न लौटने पर पीड़ितों को ठगी का एहसास हुआ। जिसके बाद से यह सामूहिक टप्पेबाजी की घटना पूरे इलाके में चर्चा का विषय बन गई है।


ग्रामीणों के मुताबिक कुछ दिनों पहले दो पुरुष,दो महिलाएं व दो किशोरियां माल के गुमसेना गांव में आए थे। ग्रामीणों के सामने खुद को व्यापारी बताते हुए उन्हें विश्वास में लिया। ग्रामीणों के साथ घुलने मिलने के बाद उन्होंने बताया कि वह पुराने कपड़े, जेवर और बर्तनों को खरीदते हैं।जिन्हें वह उतने ही वजन के नए बर्तन और जेवर बना कर वापस कर जाते हैं। इतना ही नहीं टप्पेबाजों ने यह भी झांसा दिया कि ज्यादा माल देने वालों की कंपनी की तरफ से 10 हजार से लेकर 25 हजार रुपये तक का नकद इनाम भी दिया जाता है।


पांच लोगों का माल वापस कर जीता विश्वास
ग्रामीणों के मुताबिक आरोपितों ने पहले पांच ग्रामीणों के घर से सोने-चांदी के पुराने जेवर और तांबा पीतल के बर्तन तराजू से तौल कर लेकर गए और दूसरे दिन वापस भी करने आए जिसके बाद ग्रामीणों का उन पर विश्वास हो गया था।
महिलाओं को बनाते थे निशाना
ग्रामीणों ने बताया कि टप्पेबाजों में शामिल दो महिलाएं और किशोरियां घरों में जाकर महिलाओं को झांसा देने का काम करती थी। आरोपित महिलाएं घरों की महिलाओं के साथ घर के सदस्यों की तरह घुलमिल जाती थी। जिससे महिलाएं आसानी से उनके चंगुल में फंसती चली गईं। ग्रामीणों के मुताबिक आरोपितों ने खुद के पास मोबाइल न होने की जानकारी दी थी।
डाला भरवाकर ले गए माल, ग्रामीणों ने की मदद
ग्रामीणों के मुताबिक 25 मई को आरोपित दोबारा गांव पहुंचे। इस बार महिलाओं को उन पर पूरा विश्वास हो गया। जिसके बाद उन्होंने एक-एक करके 30 घरों से जेवर, और तांबा-पीतल के पुराने बर्तन व कपड़े बटोर ले गए। इतना ही नहीं पूरा माल ले जाने के लिए उन्हें लोडर डाला को बुलाना पर। झांसे में आए ग्रामीणों ने आरोपितों की मदद कर पूरा सामान डाला में लोड करवा दिया।
ये महिलाएं हुई शिकार
फूलमती, गुड्डी, पार्वती, कमला, शिवराजा, रामकली, जानकी, रिंकी, रंजीता, लेखाना, शोमवती, जुली, ममता, रामदेवी, निर्मला, शिवानी, सुरजा, सन्नो, सीमा, विनीता, केशकली,खुशबू, सुनीता, जनाका, किरन, सीमा, शांति, सावित्री, कलावती, सिताला।
वर्जन
घटना की हमें जानकारी नहीं है। गांव जाकर पूरे प्रकरण की जानकारी जुटा कर आरोपितों को तलाश कर कार्रवाई की जाएगी
-विनोद गोस्वामी, थाना प्रभारी माल

error: Content is protected !!