Tuesday, June 25, 2019
Home > Top Photos > पारंपरिक ज्ञान में छिपे बेहतर जल प्रबंधन के सूत्र -जल प्रबंधन संभावनाएं और भविष्य विषय पर सेमिनार

पारंपरिक ज्ञान में छिपे बेहतर जल प्रबंधन के सूत्र -जल प्रबंधन संभावनाएं और भविष्य विषय पर सेमिनार

लखनऊ संवाददाता – 46 वी जवाहर लाल नेहरु विज्ञानं गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी के अन्तर्गत केन्द्रीय विद्यालय अलीगंज में जल प्रबंधन संभावनाएं और भविष्य विषय पर सेमिनार आयोजित किया गया। सेमिनार में केंद्रीय विद्यालय अलीगंज लखनऊ संकुल के अन्तर्गत आने वाले नौ केंद्रीय विद्यालयों के विद्यार्थियों ने जल प्रबंधन के लिये विभिन्न उपाय सुझाये।
जिसमें छात्रों ने कोहरे से पानी बचाने की तकनीकी, क्लाउड सीडिंग, खेती के लिए ड्रिप इरीगेशन तकनीकी, ईको टॉयलेट, जैव प्राद्योगिकी द्वारा सुखा प्रतिरोधी फसलों की आवश्यकता व भारत के पारंपरिक प्रकृति प्रेमी ज्ञान से सीख लेकर पानी प्रबंधन के उपाय सुझाये। इस अवसर पर विद्यालय की प्राचार्य संगीता यादव ने विधार्थियों से आह्वान किया कि वह प्रकृति की अमूल्य धरोहर जल का संरक्षण एवं संवर्धन करने के लिए समाज में सन्देश फैलाएं। विद्यालय परिसर में जल की बर्बादी रोकने के लिए नलों की टोटियों को जरूरत अनुसार ही खोले एवं उपयोग के बाद तुरंत बंद कर दें i सेमिनार प्रतियोगिता में केंद्रीय विद्यालय लखीमपुर खीरी के छात्र हर्ष गौर ने प्रथम स्थान एवं केन्द्रीय विद्यालय अलीगंज की छात्रा मुशरत जहाँ ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। केन्द्रीय विद्यालय अलीगंज संकुल के विज्ञान प्रदर्शनी प्रभारी सुशील कुमार द्विवेदी ने बताया कि जवाहर लाल नेहरु विज्ञानं गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी हर वर्ष केन्द्रीय विद्यालयों में विज्ञानं गणित एवं पर्यावरण जागरूकता हेतु आयोजित की जाती है। इस बार का मुख्य विषय जीवन में चुनौतियों का सामना के लिए वैज्ञानिक समाधान है। संकुल स्तर पर प्रथम स्थान पर चयनित छात्र केन्द्रीय विद्यालय गोमती नगर में 17 दिसम्बर से आयोजित दो दिवसीय क्षेत्रीय स्तर की प्रतियोगिता में भाग लेंगे I