Monday, November 11, 2019
Home > Top Stories >  बुजुर्गों की प्रस्तुतियों को देख सभी हो गए दंग

 बुजुर्गों की प्रस्तुतियों को देख सभी हो गए दंग

-वरिष्ठ नागरिकजन कल्याण समिति का 13वां स्थापना दिवस समारोह
लखनऊ Ap3news-उम्र के इस पड़ाव में उनकी अदाएं बिजली गिरा रही थी। जोश भी युवाओ से कम नहीं था। 60 वर्ष से ऊपर के बुजुर्गों ने पुराने फिल्मी गानों पर डांस की ऐसी परफार्मेंस दी कि वहां मौजूद सारे लोग दंग रह गए। सभी ने तालियां बजाकर  उनका हौसला बढ़ाया। मौका था वरिष्ठ नागरिक जन कल्याण समिति की ओर से आयोजित स्थापना दिवस व प्लैटिनम, डायमंड व गोल्डन एज सम्मान समारोह का। जानकीपुरम विस्तार में मंगलवार को एक गेस्ट हाऊस में आयोजित समारोह में बुजुर्ग महिलाओ ने रैम्पवॉक कर लोगों का दिल जीत लिया।
साँस्कृतिक कार्यक्रम का मुख्य  आकर्षण कव्वाली रहा। ‘ आज फैसला हो जाएगा तुम नहीं या हम नहीं…’ पर महिला व पुरुष बुजुर्गों ने पेशेवर कव्वालों की तरह अपनी प्रस्तुति दी। कव्वालों की तरह वेशभूषा धारण उनके आकर्षण को और बढ़ा रही थी। कव्वाली की धुन पर  मौजूद लोग भी खुद थिरकने से नहीं रोक सके।
वही गुलाब चन्द्र सक्सेना ने ‘हुजूर इस कदर न इतरा के चलिए..’ व कृष्ण प्रकाश अग्रवाल ने ‘ अये दिल है मुश्किल जीना यहां…’ गीत सुनाकर सभी का मनोरंजन किया। इसके बाद एकल में आरुषी सक्सेना ने ‘ परदेसियां ये सच है पिया…’ व सिमरन रैना ने ‘ निगाहे मिलाने का जी चाहता…’ पर खूबसूरत नृत्य कर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। वही युगल में डॉ जे लाल व साधना लाल ने ‘ दिल लूटने वाले जादूगर…’ व योगेश पाण्डेय व नमिता पाण्डेय ने ‘ गोरे रंग पर इतना गुमां न कर…’ तथा असित श्रीवास्तव व सीमा श्रीवास्तव ने ‘ भोली सूरत दिल के खोटे…’ पर मनमोहक प्रस्तुति दी। कैट वॉक में बुजुर्ग महिलाओं ने मॉडलों की तरह अपनी अदाएं दिखाई। जिसमे रोमा श्रीवास्तव प्रथम, रश्मि पाण्डेय द्वितीय, आरुषी सक्सेना तृतीत रही।
इनको मिला सम्मान
80 वर्षीय राज दुलारी सक्सेना को गोल्डेन एज सम्मान से सम्मानित किया गया। जबकि डायमंड 75 वर्ष से ऊपर में नील रतन मनु वंश, अशोक सक्सेना, राम प्रकाश गुप्ता प्लेटिनम जुबली 70 से ऊपर में वेद वती शुक्ला, मीरा दीक्षित, स्नेह लता श्रीवास्तव, भाग्यवती, सलमा अहसान वासे, राकेश चन्द्र वर्मा, प्रभात कुमार महरोत्रा, आर के दास मेहरोत्रा, लालजी श्रीवास्तव, श्रीधर मिश्रा, श्रवण कुमार अग्रवाल, रमेश चन्द्र श्रीवास्तव, चंद्रकेश श्रीवास्तव
error: Content is protected !!