Tuesday, August 11, 2020
Home > Top Stories >  सफाई कर्मियों के हक के लिए सड़क पर उतरी फैजुल्लागंज की महिलाएं

 सफाई कर्मियों के हक के लिए सड़क पर उतरी फैजुल्लागंज की महिलाएं

लखनऊAp3- भीषण सर्दी में बिना जूता व जैकेट के कार्य करने को मजबूर कार्यदायी सफाई कर्मियों के हक के लिए फैजुल्लागंज में महिलाओं ने सड़क पर पैदल मार्च निकाला।

सामाजिक कार्यकर्ता ममता त्रिपाठी के नेतृत्व में मौजूद 500 से अधिक लोगों ने सफाई कर्मियों की निरीह दीन हीन दशा पर चिंता व्यक्त की। ममता त्रिपाठी ने कहा कि एक तरफ नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण के प्रचार प्रसार के नाम पर रुपया पानी की तरह बहा रहा है, दूसरी तरफ सार्वजनिक स्वच्छता की रीढ़ माने जाने वाले कार्यदायी सफाई कर्मियों का शोषण किया जा रहा है।

कार्यदायी संस्था व नगर निगम के अधिकारी मिलकर सफाई कर्मियों का शोषण कर रहे हैं। यह ₹200 की दैनिक मजदूरी पर कार्य कर रहे सफाई कर्मियों को इस भीषण सर्दी में नगर निगम ना तो जूता दे रहा है और ना ही जैकेट ।ममता त्रिपाठी ने बताया कि इन सफाई कर्मियों के परिवार आर्थिक तंगी बीमारी व कर्ज में डूबे हुए हैं सड़क से लेकर सदन तक इन बेबस कर्मियो के हक में कोई बोलने वाला नहीं है। सफाई कर्मियों को सशक्त किए बिना स्वच्छता अभियान के लक्ष्य को प्राप्त करना संभव नहीं है। कार्यदायी सफाई कर्मियों का भुगतान बढ़ाया जाना चाहिए व इनके भुगतान में पारदर्शिता लाई जानी चाहिए ताकि ठेकेदार इनकी मेहनत की कमाई को हजम न कर सके। पैदल मार्च के दौरान प्रमुख रुप से बाल महिला सेवा संगठन की उपाध्यक्ष आशा मौर्य महामंत्री मीना पांडे, तारा श्रीवास्तव, इशरत जहां, अखिलेश पांडेय, मुरली प्रसाद वर्मा, गीता देवी, ज्योति, रामविलास शर्मा, सरस्वती रावत प्रमुख रूप से मौजूद रहे।