Friday, February 22, 2019
Home > Top Stories > लखनऊ की ऐतिहासिक इमारतों एवं साँस्कृतिक विरासत देख गद्गद् हुए 14 देशों के विदेशी छात्र

लखनऊ की ऐतिहासिक इमारतों एवं साँस्कृतिक विरासत देख गद्गद् हुए 14 देशों के विदेशी छात्र

लखनऊ –  सिटी मोन्टेसरी स्कूल की मेजबानी में चल रहे ‘26वें अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर’ के प्रतिभागी 14 देशों के मेहमान छात्रों ने लखनऊ भ्रमण का आनन्द उठाया और लखनऊ की ऐतिहासिक इमारतों, साँस्कृतिक विरासत व गंगा-जमुनी तहजीब से रूबरू हुए। ब्राजील, कोस्टारिका, डेनमार्क, फ्राँस,जर्मनी, इटली, जापान, मैक्सिको, मंगोलिया, नार्वे, स्पेन, स्वीडन, थाईलैण्ड एवं भारत के नन्हें मेहमानों ने लखनऊ भ्रमण के दौरान बड़ा इमामबाड़ा एवं रीजनल साइंस सेन्टर आदि दर्शनीय स्थलों की सैर की और इस दौरान लखनऊ के लजीज जायके का आनन्द उठाया, साथ ही लखनऊ की गंगा-जमुनी तहजीब को नजदीक से अनुभव किया। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. की मेजबानी में एक माह का अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर 28 दिसम्बर 2018 से 24 जनवरी 2019 तक आयोजित किया जा रहा है, जिसमें 14 देशों से पधारे 11 से 12 वर्ष उम्र के छात्र एक छत के नीचे साथ-साथ रहकर एकता, शान्ति, सद्भाव, सहयोग, भाईचारा, मैत्री आदि का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं तथापि भारत की सँस्कृति, सभ्यता, खान-पान व रीति-रिवाजों से भी अवगत हो रहे हैं।श्री शर्मा ने बताया कि लखनऊ की गलियों में घूमते हुए इन विदेशी बच्चों ने वसुधैव कुटुम्बकम का अनूठा अद्भुद दृश्य उपस्थित किया। लखनऊ दर्शन के दौरान इन विदेशी बाल मेहमानों ने विभिन्न प्रकार के लजीज पकवानों का भी जमकर आनन्द उठाया। एक अनौपचारिक वार्ता में विभिन्न देशों से पधारे इन बच्चों ने कहा कि भारत के इतिहास के बारे में मैने किताबों में पढ़ा था। आज मैंने यहाँ की संस्कृति, सभ्यता, आपसी प्रेम, मिलनसार लोगों को करीब से देखने का अवसर मिला। यहां हमें बहुत प्यार और मुहब्बत मिली है और हम फिर से भारत आना चाहेंगे।

श्री शर्मा ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर के अन्तर्गत विभिन्न संस्कृति, भाषा, सभ्यता,रीति-रिवाज में पले-बढ़े बच्चों को इस प्रकार के एक माह लम्बे अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में इकट्ठा रखे जाने का उद्देश्य छोटे बच्चों के कोमल हृदय में आपसी भाईचारा, विश्व शांति तथा विश्व बन्धुत्व की भावना का समावेश करना है। बाल शिविर के अन्तर्गत प्रतिभागी बच्चों के ठहरने, खाने-पीने, खेल-कूद,ऐतिहासिक स्थलों के भ्रमण, चिकित्सा आदि की सारी सुविधाऐं सी.एम.एस. द्वारा उपलब्ध करायी जा रही हैं।