Saturday, August 24, 2019
Home > Top Stories > विद्युत संविदा कर्मियों को मिले समय पर वेतन

विद्युत संविदा कर्मियों को मिले समय पर वेतन

लखनऊ एपी3 – प्रदेश के ऊर्जा मंत्री पं0 श्रीकान्त शर्मा ने आज प्रदेश की विद्युत व्यवस्था की समीक्षा बैठक में संविदा कर्मियों के वेतन भुगतान में ठेकेदारों द्वारा देरी व अनियमितताओं के मामलों पर नाराजगी व्यक्त करते हुये अधिकारियों को टास्क फोर्स बनाकर 2 हफ्ते में ठेकेदारों द्वारा किये गये भुगतान का आडिट कराने एवं दोषी ठेकदारों व कार्मिकों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने मध्यांचल एवं पूर्वांचल डिस्काम में संविदा कर्मियों के बारे में पोर्टल पर जानकारी अपलोड करने में हो रहे विलम्ब पर असन्तोष व्यक्त करते हुए इसमें तेजी लाने के निर्देश दिये।

बैठक में उन्होंने आये दिन सर्वर की खराबी का उल्लेख करते हुये इस समस्या को तत्काल ठीक कराने के निर्देश दिये। प्रबन्धन ने उन्हें अवगत कराया कि सर्वर की समस्या को समाप्त करने के लिए जिम्मेदार एजेन्सियां तकनीकी सुधार के साथ आवश्यक कार्य करा रही हैं। इस सन्दर्भ में कार्यदायी एजेन्सियों को कड़े निर्देश दिये गये हैं, शीघ्र ही ये समस्या नहीं रहेंगी और सर्वर ठीक से काम करेंगे।

उन्होंने सरचार्ज माफी योजना में अभी तक की प्रगति पर असंतोष व्यक्त करते हुये, उसमें तेजी लाने के निर्देश दिये। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि उपभोक्ताओं की सुविधा के लिये लगातार योजनाएं चलायी जा रही हैं। सरचार्ज माफी योजना भी ऐसी योजनाओं की एक कड़ी है। जिसमें 31 जनवरी 2019 तक पंजीकरण कराकर अपना सरचार्ज माफ कराया जा सकता है। योजना के बाद बकायेदारों पर सख्ती होगी। उन्होंने उपभोक्ताओं से अपील भी की है कि वे इस योजना का लाभ लेकर अपना बकाया जमा करायें जिससे उन्हें आगे परेशानी न हो।
शक्ति भवन में आयोजित समीक्षा में उन्होंने निजी एवं राजकीय नलकूपों के ऊर्जीकरण के कार्यों में भी तेजी लाने के निर्देश दिये। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि गर्मियां आने वाली हैं इसलिये सिंचाई सुविधाओं को देखते हुए नलकूप ऊर्जीकरण के कार्यों को समयबद्ध ढंग से निपटाया जाय।
ऊर्जा मंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि विद्युत के सभी कार्यों में गुणवत्ता की परख एवं तेजी के लिये उच्च अधिकारी लगातार औचक निरीक्षण करें और उसकी सूचना मुख्यालय भेजें।
ऊर्जा मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री जी प्रदेश की विद्युत व्यवस्था को एक आदर्श व्यवस्था के रूप में देखना चाहते हैं। उनकी मंशा है कि प्रदेश के उपभोक्ताओं को अधिकतम निर्बाध बिजली मिले साथ ही विभाग की आर्थिक स्थति भी सुदृढ़ हो। इसलिये हमें दिन रात मेहनत करके व्यवस्थाओं को बेहतर करना है।
सौभाग्य योजना से ऊर्जीकृत हुये मजरों और अधिक कनेक्शन पाने वाले क्षेत्रों में नए ट्रांसफॉर्मर की स्थापना व ट्रांसफॉर्मर की क्षमता वृद्धि के कार्यों की प्रगति का भी आकलन किया। उन्होंने फरवरी तक शेष कार्यों को पूर्ण करने के निर्देश दिये।
बैठक में प्रमुख सचिव ऊर्जा श्री आलोक कुमार, प्रबन्ध निदेशक अपर्णा यू0 सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

error: Content is protected !!