Tuesday, October 15, 2019
Home > Top Stories > वर्दी आन है मेरी, ये वर्दी शान है मेरी, 

वर्दी आन है मेरी, ये वर्दी शान है मेरी, 

लखनऊ एपी3– राजकुमारी देवी उर्फ तारा देवी संस्थान के तत्वावधान में शुक्रवार को कुर्सी रोड स्थित केन्द्रीय यूनानी चिकित्सा एवं अनुसंधान केन्द्र में गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर कवि सम्मेलन व मुशायरा का आयोजन किया गया, जिसका शुभारंभ डॉ अजय प्रसून की वाणी वंदना से हुआ। कवि सम्मेलन की अध्यक्षता रत्ना बापुली ने की।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सैय्यद मुहम्मद हसीब अध्यक्ष विद्युत उपभोक्ता व्यथा निवारण फोरम व

अति विशिष्ट अतिथि वकार रिजवी जनरल सेक्रेटरी , उर्दू राईटरस् फोरम मौजूद थे। मुशायरा की शुरुआत खैराबाद के नन्हे शायर अन्सारुल हक खैराबादी से हुई। इस दौरान हास्य कवि चेत राम अज्ञानी ने जहा अपने हास्य से श्रोताओं को गुदगुदाया वहीं पंडित बेअदब लखनवी ने ये वर्दी आन है मेरी, ये वर्दी शान है मेरी, भले खाकी हो रंग इसका, मगर पहचान है मेरी… पढकर देश भक्ती की अलग जगाई।

वहीं बाराबंकी के शायर जमीर फैजी सहित सीतापुर के शायर अनवार सीतापुरी, अस्मार खैराबादी, छंदकार भ्रमर बैसवारी, कवयित्री रत्ना बापुली, पण्डित विजय लक्ष्मी मिश्रा, बरेली की साक्षी भारती तन्हा, जनकवि सिद्धेश्वर क्रान्ति सहित कार्यक्रम को अपने कुशल संचालन से ऊंचाई प्रदान करने वाले राहुल द्विवेदी स्मित ने अपनी सुन्दर रचनाओं से श्रोताओं का दिल जीत लिया ।

error: Content is protected !!