Tuesday, April 13, 2021
Home > सात

कविता ‘सात’ -कवियत्री डॉ सुषमा श्रीवास्तव

सात (कविता) सूरज की सुनहरी किरणों में सात रंग छिपते हैं, सरगम की सुरीली धुन में सुर सात ही सजते हैं। सात रंग से सज करके इंद्रधनुष बन जाता है। सात दिनों का एक समूह सप्ताह कहलाता है। सात योगियों का समूह सप्तऋषि बन अमर हुआ, सात पुरी ही मोक्ष द्वार की, फिर भी मानव

Read More