You are here
Home > इंटरव्यू

दो दिन में दी जाए केन्द्रीय दल के सदस्यों की मांगी गई सूचनाएं-आलोक रंजन

9770_alokलखनऊ। प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन ने सूबे के सम्बन्धित प्रमुख सचिवों एवं विभागाध्यक्षों को निर्देश दिये हैं कि केन्द्रीय दल के सदस्यों द्वारा मांगी गई सूचना आगामी 02 दिन के अन्दर जरूर भेजकर अवगत करायें। उन्होंने भारत सरकार के अपर सचिव राघवेन्द्र सिंह, के नेतृत्व में आये सदस्यों से अनुरोध किया कि प्रदेश के किसानों को तत्काल राहत उपलब्ध कराने हेतु प्रदेश सरकार के मेमोरेन्डम के अनुसार 2057.79 करोड़ रूपये की धनराशि भारत सरकार से यथाशीघ्र स्वी.त कराने हेतु अपनी संस्तुति भेज दें। उन्होंने सदस्यों से बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के 50 जनपदों को सूखाग्रस्त घोषित किया जा चुका है।
मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश के इलाहाबाद, फतेहपुर, चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, महोबा, झांसी, जालौन, ललितपुर, गोरखपुर, कुशीनगर, महाराजगंज, देवरिया, कानपुर नगर, सन्त कबीर नगर, मिर्जापुर, सोनभद्र, मऊ, उन्नाव बलरामपुर एवं अम्बेडकर नगर जनपदों में 33 प्रतिशत या उससे अधिक .षि क्षति की सूचना प्राप्त हुई है जो भारत सरकार के मानकों के अनुकूल है।
मुख्य सचिव गुरूवार को शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में भारत सरकार के केन्द्रीय दल राघवेन्द्र सिंह, अपर सचिव के नेतृत्व में आई 10 सदस्यीय टीम के साथ बैठक कर प्रदेश को राहत धनराशि दिलाने का अनुरोध कर रहे थे। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय दल के सदस्यों ने प्रभावित जनपदों का भ्रमण कर किसानों को राहत दिलाने में अपनी मौखिक सहमति व्यक्त करते हुए कहा है कि जल्द ही वह अपनी रिपोर्ट भारत सरकार को प्रस्तुत कर देंगे।
श्री रंजन ने बताया कि प्रदेश के किसान विगत 03 फसलों से विपरीत मौसम से प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में तिल के उत्पादन के लिए बीज आदि की सहायता उपलब्ध कराये जाने के फलस्वरूप किसानों को राहत प्रदेश सरकार द्वारा अवश्य दी गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के बुन्देलखण्ड जनपद के किसान विगत रबी एवं खरीफ फसल हेतु सम्भावित मानसून न आने के कारण दैवीय आपदा को झेल रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा आगामी रबी की फसल हेतु बीज की सब्सिडी बढ़ाये जाने पर गम्भीरता से विचार कर किसानों को राहत देने की योजना है। मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश के 50 जनपदों संतरविदास नगर, सोनभद्र, सुल्तानपुर, मिर्जापुर, बलिया, सिद्धार्थनगर, शाहजहांपुर, बांदा, प्रतापगढ़, चंदौली, इटावा, बस्ती, बागपत, जौनपुर, फैजाबाद, गोण्डा, कन्नौज, बाराबंकी, संतकबीरनगर, झांसी, जालौन, गोरखपुर, हाथरस, एटा, इलाहाबाद, गाजियाबाद, फर्रूखाबाद, मऊ, उन्नाव, रामपुर, हमीरपुर, ललितपुर, चित्रकूट, कानपुर नगर, लखनऊ, देवरिया, मैनपुरी, महाराजगंज, आगरा, औरैया, पीलीभीत, अमेठी, महोबा, रायबरेली, कुशीनगर, कानपुर देहात, कौशाम्बी, फतेहपुर, अम्बेडकर नगर एवं बलरामपुर को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है।

Top